सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

2022 Me Janmashtami Kab Hai | जन्माष्टमी कब और क्यों मनाया जाता है

सनातन धर्म के लोगों के लिए जन्माष्टमी महत्वपूर्ण पर्व है। इस पर्व को लोग बड़े धूमधाम से मनाते हैं। जन्माष्टमी में भगवान श्री कृष्ण के जन्म स्थल मथुरा में बड़े स्तर पर भगवान श्री कृष्ण की पूजा अर्चना की जाती है। इस दिन लोग भगवान श्री कृष्ण से लंबी आयु तथा संतान प्राप्ति जैसे मनोकामना की भावना रखते हैं। भगवान श्री कृष्ण का जन्म माता देवकी के गर्भ से आठवीं संतान के रूप में हुआ था। इस वर्ष 2022 में जन्माष्टमी 2 दिन मनाया जाएगा।


कृष्ण जन्माष्टमी को लगभग पूरे भारतवर्ष में मनाया जाता है। इस दिन लोग भगवान श्री कृष्ण की पूजन के लिए पूरे दिन उपवास कर रात्रि में पूजा करते हैं क्योंकि भगवान श्री कृष्ण का जन्म कंस के कारागार में कैद माता देव की गर्भ से भगवान श्री कृष्ण का जन्म रात्रि में हुआ था। जिस कारण जन्माष्टमी को रात्रि के समय में मनाया जाता है।

Janmashtami Kab Hai

कृष्ण जन्माष्टमी कब है 2022

इस वर्ष जन्माष्टमी पूजन प्रारंभ 18 अगस्त गुरुवार से शुरू हो रही है और समाप्ति 19 अगस्त शुक्रवार को हो रही है।

    कृष्ण जन्माष्टमी प्रत्येक वर्ष भाद्रपद कृष्ण पक्ष की अष्टमी तिथि के दिन जन्माष्टमी का पर्व मनाया जाता है। इसी दिन भगवान श्री कृष्ण का जन्म हुआ था।


जन्माष्टमी 2 दिन क्यों मनाई जाती है ?

हिंदू पर्व का समय निर्धारण हिंदी पंचांग से की जाती है। जहां पर पक्ष के समापन पर यह बात निर्धारित करती है कि जन्माष्टमी तथा कोई और व्रत हमें कितने दिन मनाना चाहिए और किस पक्ष में पर्व को मनाए कि हमारे लिए शुभ हो। 

भले ही हमारे अंग्रेजी कैलेंडर के अनुसार 2 दिन लगे। परंतु यह असल में पक्ष का खेल होता है। जिसमें हिंदी कैलेंडर और पक्ष आपस में मेच नहीं खाते, जिस कारण कैलेंडर में हमें पक्ष को जोड़कर तारीख में बताया जाता है, वहीं पर हिंदी पंचांग में तारीख से कोई भी लेना देना नहीं होता, बल्कि वहां पर मुहूर्त काम आता है।


इन्हे भी देखें -

Friendship Day Kab Hai

बिंदुसार की मृत्यु कैसे हुई

रक्षा बंधन कब है 

विश्वरक्रमा पूजा कब है


कृष्ण जन्माष्टमी का शुभ मुहूर्त

भगवान श्री कृष्ण जी के बाल गोपाल सवरूप का इस दिन पूजन होता है। जन्माष्टमी के दिन शुभ मुहूर्त पर पूजा की जाए तो फल की प्राप्ति होती है।

हिंदी पंचांग के अनुसार साल 2022 में जन्माष्टमी पूजन के लिए सबसे शुभ मुहुर्त माना जा रहा हैं। जन्माष्टमी का शुभ मुहूर्त ध्रुव योग और वृद्ध योग में बन रहा है।


  • भाद्रपद कृष्ण पक्ष अष्टमी तिथि शुरुआत और समाप्ति - 18 अगस्त शाम 9:21 से शुरू तथा 19 अगस्त रात 10:59 पर समाप्ति।


  • अभिजीत मुहूर्त कि प्रारंभ तथा समाप्ति - 18 अगस्त दोपहर 12:05 से 12 बज के 56 मिनट तक।


  • वृद्धि योग मुहुर्त आरंभ तथा समाप्त - 17 अगस्त शाम 8:56 से 18 अगस्त शाम 8:41 तक रहेगा।


  • धुव्र योग मुहुर्त की आरंभ तथा समाप्ति - 18 अगस्त शाम 8:41 से 19 अगस्त शाम 8:59 तक रहेगा।


  • जन्माष्टमी पारण समय - 19 अगस्त रात 10:59 के बाद पारण से छुटकारा पा सकते हैं।


जन्माष्टमी कैसे मनाई जाती है

लगभग हमलोगो ने अनेक देवी देवताओं की पूजा की है, उसी तरह जन्माष्टमी भी मनाया जाता है। परंतु जन्माष्टमी अलग पर्व होने के कारण इस दिन जगह जगह पर लोग भगवान श्री कृष्ण की मूर्ति तथा मंदिरों को सजाते हैं और जगराता करते हैं।

भगवान श्री कृष्ण की जन्म स्थल मथुरा में इस पर्व को बहुत ही बड़े स्तर पर मनाया जाता है। जहां पर सारे मंदिरों को सजाया जाता है। और विधि अनुसार भगवान श्री कृष्ण की पूजा अर्चना की जाती है।


जन्माष्टमी क्यों मनाया जाता है 2022

हिंदू ग्रंथों के मान्यताओं के अनुसार भगवान विष्णु का कृष्ण जी एक अवतार है। जो मथुरा में माता देवकी के गर्भ से जन्म लेकर मथुरा राज महाबली कंस का वध किए थे। इसी लिए कृष्ण पक्ष की अष्टमी को भगवन श्री कृष्ण के पूजन के रूप में जन्माष्टमी मनाया जाता है।


जन्माष्टमी का महत्व

जो व्यक्ति जन्माष्टमी व्रत करता है। उसे ऐश्वर्या और मुक्ति की प्राप्ति होती है इसी जन्म में। आयु, कीर्ति, यश, नाम को प्राप्त कर पाते हैं और सदा सुखी जीवन बिता पाते हैं। जो भगवान श्री कृष्ण की कथा सुनते हैं उनकी समस्त पाप नष्ट हो जाते हैं।


जन्माष्टमी की कथा

भाद्रपद कृष्णा अष्टमी को जन्माष्टमी मनाया जाता है। इसी दिन भगवान श्री कृष्ण का जन्म हुआ था। जिस दिन रात्रि में रोहिणी नक्षत्र को अंधेरी रात में मथुरा के कैद खाने में वासुदेव की पत्नी देवकी के गर्व से भगवान विष्णु का अवतार श्री कृष्ण जन्म लिए थे। फिर उस बालक को उसी अंधेरी रात में वासुदेव गोकुल में नंद राज की पत्नी यशोदा के घर में एक पुत्री भगवान दुर्गा के रूप में जन्मी थी। जिसे वासुदेव अपने साथ मथुरा ले आते हैं और अपने पुत्र को यशोदा के घर छोड़ आते हैं। इस बात का पता देवकी को भी ज्ञान नहीं था।


मथुरा में जन्माष्टमी कब है

भले ही भगवान श्री कृष्ण का मथुरा में जन्म हुआ हो परंतु पूरे भारतवर्ष में एक ही समय पर जन्माष्टमी का पावन पर्व मनाया जाता है। यानी साल 2020 में जन्माष्टमी 18 और 19 अगस्त को मनाया जाएगा।


जन्माष्टमी की पूजन विधि

भगवान श्री कृष्ण की पूजा सभी कोई करते हैं, परंतु यह नहीं जानते कि भगवान श्री कृष्ण का जन्माष्टमी के दिन किस तरह से पूजा होता है।


  • जन्माष्टमी के एक दिन पहले हल्का तथा शाकाहारी भोजन ग्रहण करने के साथ ब्रह्मचर्य का पालन करना चाहिए।


  • उपवास वाले दिन सभी देवताओं को नमस्कार करके पूर्व या उत्तर में मुख करके बैठें।


  • पूजा के दौरान देवकी, वासुदेव, बलदेव, नन्द, यशोदा और लक्ष्मी जी का नाम लगातार लेते रहें।


  • रात्री 12 बजे के बाद व्रत को खोले। व्रत को फलहार से तोड़े।


FAQ 

Q : कृष्ण की पत्नी का नाम क्या हैं?

Ans : भगवान श्री कृष्ण के 8 धर्मपत्नी थी जिनका नाम रुक्मणि, सत्यभामा, जाम्बवन्ती, कालिन्दी, सत्या, लक्ष्मणा, मित्रबिन्दा, और भद्रा


Q : भगवान कृष्णा का जन्म कब हुआ था?

Ans :  कृष्ण का जन्म द्वापर युग महाभारत काल में हुआ था जिस युग का महान पुरुष भी कहलाते हैं।


Q : कृष्णा किस भगवान के अवतार हैं?

Ans : विष्णु 


Q : कृष्णा के माता पिता का नाम क्या था?

Ans : माता देवकी तथा पिता वासुदेव और यशोदा पालन हारी मां तथा नन्द पालन हारी पिता


Q: 2023 में जन्माष्टमी कब है ?

Ans : 6 सितंबर बुधवार तथा गुरुवार 7 सितंबर को


Q : जन्माष्टमी की सरकारी छुट्‌टी है क्या

Ans : हा 


Q. कृष्णा जी के कितने संतान और कौन-कौन

Ans : भगवान श्री कृष्ण के 80 पुत्र थे।



आज हमने क्या सीखा

आशा करता हूं, भाईयो और बहनों आपको Janmashtami Kab Hai 2022 Mein लेख काफी मददगार साबित हुई होगी, फिर भी इस लेख से संबंधित किसी भी प्रकार की समस्या या परेशानी का सामना करना पड़ रहा है। तो, आप मुझे कमेंट बॉक्स में तुरंत कमेंट करें। मैं उसकी जल्द से जल्द रिप्लाई देने का कोशिश करूंगा और आपको इस लेख में किसी भी तरह की खामियां देखने को मिल रही है। तो मुझे संपर्क करें।

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

गूगल मेरी माँ का नाम सेव करो। Meri Mother Ka Naam Kya Hai

गूगल मेरी मॉम का नाम क्या hai आज के इस ब्लॉग लेख में हम लोग जानेंगे की गूगल हमारे रिश्तेदारों, करीबी, दोस्तों का नाम कैसे बताता है और अगर नहीं बता पाता है तो हम किस तरह से गूगल से अपनी मां का नाम बोलवा सकते हैं? इन सारी बातों के बारे में इस लेख में चर्चा करने वाले हैं। अगर आप भी चाहते हैं कि मैं अपनी मां का नाम गूगल से बोलवाना है, तो आप इस लेख को अच्छे से पढ़े। Meri maa Ka Naam kya Hai Google se puche गूगल से अपनी Mata ka naam पूछने के लिए हमारे मोबाइल फोन में एक एप्लीकेशन होना चाहिए। जिस अप्लीकेशन का नाम है गूगल असिस्टेंट, जिसकी मदद से सवाल तो क्या किसी भी तरह की बातें कर सकते हैं, और आपके सवालों का जवाब Google assistant चंद सेकंड में देगा। अपने मोबाइल फोन का गूगल असिस्टेंट नाम का एप्लीकेशन ओपन करें नहीं है तो प्ले स्टोर पर आसानी से मिल जाएगी गूगल असिस्टेंट के नाम से जाकर डाउनलोड करें। जैसे ही Google assistant को खोलेंगे तो आपके मोबाइल कुछ परमिशन मांगेगी। सभी prmission को allow करने के बाद गूगल असिस्टेंट को set-up करे। गूगल असिस्टेंट पूरी तरह से set-up होने के बाद एक माइक का ऑप्शन द

Hello Google Meri Girlfriend Ka Naam Kya Hai | मेरी जीएफ का नाम क्या है।

Google meri girlfriend ka naam batao मैंने भी गूगल से ऐसी questions किया करता हूं। जब मुझे गूगल से बात करने का समय मिलता और यह जानने की कोशिश में गूगल हमारे प्रश्नों का उत्तर किस हद तक सही देता है और क्या हमारे गर्लफ्रेंड का नाम बता सकता है।  आप गूगल से Google girlfriend ka naam kya hai क्वेश्चन पूछ रहे हैं और आपको गूगल नहीं बता रहा है तो आप किस तरह से अपने गर्लफ्रेंड का नाम बुलवा सकते हैं। और गूगल असिस्टेंट आपकी गर्लफ्रेंड का नाम क्यों नहीं बता रहा ये सब के बारे में इस लेख में चर्चा करने वाले हैं। इसलिए ध्यान से पढ़ें। जैसा कि हम सबों को मालूम है। गूगल हमारे डाटा को ही हमारे सामने प्रेजेंट करता है। जब कोई व्यक्ति जो google ID बना रहा होता है। तो वह बहुत सारे डिटेल जीमेल आईडी बनाने में भरता है। जिससे बहुत सारे प्रश्न का उत्तर गूगल अकाउंट से दे पाता है और कुछ प्रश्न का उत्तर आपके कांटेक्ट लिस्ट, activity से। गूगल हमारी गर्लफ्रेंड का नाम क्यों नहीं बताती है अब प्रश्न रही Ok google girlfriend ka naam Kya haI तो एसे में मोबाइल पर कोई भी option नहीं होता है। जहां आपकी गर्लफ्रेंड का नाम डाल

Google मेरे पापा का नाम क्या है | Google Mere Papa Ka Naam Kya Hai In Hindi

  गूगल मेरे पापा का नाम क्या है। इस तरह के सवाल क्या आप भी गूगल से पूछते हैं। यह सोचने वाली बात नहीं है। जो भी गूगल असिस्टेंट को यूज करता है। वह अपने पापा तो क्या वह बहुत सारे चीजों को जानने के लिए उत्सुक रहता है, कि यह गूगल हमारे सवालों का जवाब सही-सही दे सकता है या नहीं। वैसे में आता है कि क्या गूगल मेरे पापा का नाम बता सकता है। गूगल मेरे पापा का नाम बताओ। से संबंधित सवाल गूगल से रोज लाखों लोग पूछते हैं। वैसे में Google लगभग सभी लोगों के पिताजी का नाम गूगल नहीं बता पाता। क्योंकि गूगल उन्हीं बातों को बताता है। जो गूगल के डाटा में शामिल हो। वैसे किसी के मोबाइल में ऐसी कोई भी डाटा नहीं होती है। जहां पर उसके पिताजी का डाटा को ऐड करना हो। इसलिए गूगल मेरे पिताजी का नाम नहीं बता पाता। आज के इस लेख में हम जान लेते हैं। गूगल आखिर किस तरह से मेरे पापा का नाम क्या है बताओ इसका आंसर चुटकियों में दे सकता है, या नहीं। Google से पापा का नाम कैस बोलवाए। गूगल भले ही कितना एडवांस क्यों ना हो जाए। परंतु इंसानों के सवालों का जवाब सभी अच्छे से नहीं दे सकता। इंसानी सवाल को एक मशीन इंसान के भावनाओं के हिसा